Thomas Edison photo

Top 20 Thomas Edison Quotes to Motivates You to Never Quit

Thomas Edison is the great inventor and American businessman. He was a famous inventor who has done many inventions in the field of electrical power generation, Long-lasting electrical bulbs. He wrote many quotes we have gathered Top 20 Thomas Edison Quotes

Thomas Edison has worked as a telegraph operator and he has become synonymous of genius and creativity. He Died in 1931.

Let’s find out Top 20 Thomas Edison Quotes

"Our greatest weakness lies in giving up. The most certain way to succeed is always to try just one more time".  - Thoughts of Thomas alva Edison

1. “Our greatest weakness lies in giving up. The most certain way to succeed is always to try just one more time”. – Thoughts of Thomas alva Edison

“हमारी सबसे बड़ी कमजोरी हार मानने में निहित है। सफल होने का सबसे निश्चित तरीका हमेशा एक बार और प्रयास करना है।”- Thomas alva Edison

Best Quotation of Life by Thomas Edison

2. “I have not failed. I’ve just found 10,000 ways that won’t work”.- Thomas alva Edison

    “मैं फेल नहीं हुआ हूं। मुझे 10,000 ऐसे तरीके मिले हैं जो काम नहीं करते हैं ।”

"Opportunity is missed by most people because it is dressed in the overalls and looks like hard work".- Thomas alva Edison

3. “Opportunity is missed by most people because it is dressed in the overalls and looks like hard work”.- Thomas alva Edison

“अवसर अधिकांश लोगो से छुट जाता है क्योंकि यह रहस्य से छुपा होता है और कार्य के जैसा    दिखता है।”

4. “Your worth consists in what you are and not in what you have”.- Thomas alva Edison

“आपकी कीमत इसमें है कि आप क्या है, इसमें नहीं कि आपके पास क्या है।”

The best thinking has been done in solitude. The worst has been done in turmoil. - Thomas alva Edison

5. The best thinking has been done in solitude. The worst has been done in turmoil. – Thomas alva Edison

सबसे अच्छी सोच एकांत में की गई है। सबसे बुरा हाल अशांति में हुआ है।

 

6. “Vision without execution is hallucination”. – Thomas alva Edison

“निष्पादन के बिना लक्ष्य भ्रम है।”

"Many of life’s failures are people who did not realise how close they were to success when they give up".- Thomas alva Edison

7. “Many of life’s failures are people who did not realise how close they were to success when they give up”.- Thomas alva Edison

“बहुत सरे लोग जिन्होंने अपने जीवन में असफ़लता  को प्राप्त किया है वह यह नहीं जानते की उन्होंने अपने सफ़लता के  कितने करीब थे जब उन्होंने हार मानी थी।”

8. “There is no substitute for hard work”.- Thomas alva Edison

“मेहनत से किये गए कार्य का कोई विकल्प नहीं है।”

"Not everything of value in life comes from BOOKS – EXPERIENCE the     world."- Thomas alva Edison

  9. “Not everything of value in life comes from BOOKS – EXPERIENCE the     world.”- Thomas alva Edison

“जीवन में मूल्य की हर चीज किताबों से नहीं आती है – दुनिया में अनुभव।”

 10. “Good fortune often happens when opportunity meets with preparation”.- Thomas alva Edison

“सौभाग्य अक्सर तब होता है जब अवसर तैयारी के साथ मिलता है।”

11. “We shall have no better conditions in the future if we are satisfied with all those which we have at present.”- Thomas alva Edison

“भविष्य में हमारे पास कोई बेहतर स्थिति नहीं होगी यदि हम उन सभी से संतुष्ट हैं जो वर्तमान में हमारे पास हैं।”

 "The three great essentials to achieve anything worthwhile are: Hard Work, Stick-to-itiveness and common sense".- Thomas alva Edison

 

12. “The three great essentials to achieve anything worthwhile are: Hard Work, Stick-to-itiveness and common sense”.- Thomas alva Edison

“तीन सबसे महत्वपूर्ण और जरुरी चीज़ जिससे आप जीवन में कुछ भी प्राप्त कर  सकते हो कड़ी मेहनत, सकरात्मक विचारो से जुड़ा रहना और सामन्य ज्ञान।”

Inspiration can be found in a pile of junk. Sometimes, you can put it together with a good imagination and invent something.

13. “Inspiration can be found in a pile of junk. Sometimes, you can put it together with a good imagination and invent something”.- Thomas alva Edison

“प्रेरणा कबाड़ के ढेर में मिल सकती है। कभी-कभी, आप इसे एक अच्छी कल्पना के साथ जोड़ सकते हैं और कुछ आविष्कार कर सकते हैं।”

14. “If we did all the things we are capable of, we would literally astound ourselves”. – Thomas alva Edison

“यदि हम उन सभी चीजों को करते हैं जो हम करने में सक्षम हैं, तो हम सचमुच खुद को चकित कर देंगे।”

15. “Just because something doesn’t do what you planned it to do doesn’t mean it’s useless”.  – Thomas alva Edison

“सिर्फ इसलिए कि कोई चीज़ वह कार्य नहीं करती जिस कार्य के लिए आपने उसे बनाया था, उसका ये मतलब नहीं कि वो बेकार या अनुपयोगी है।”

Quote by thomas edison Never get discouraged if you fail. Learn from it. Keep Trying.

16. “Never get discouraged if you fail. Learn from it. Keep Trying.”- Thomas alva Edison

“असफल होने पर कभी निराश न हों। इससे सीखो। कोशिश करते रहो।”

17. 5% of the people think; 10% of the people think they think; and the other 85% would rather die than think.- Thomas alva Edison

“पाँच प्रतिशत लोग सोचते है। दस प्रतिशत लोग सोचते है कि वे सोचते है। और बाकी बचे हुए पिच्यासी प्रतिशत लोग सोचने से ज़्यदा मरना पसंद करते है।”

Quote by Thomas alva Edison

18. “When you have exhausted all possibilities, remember this: you haven’t”.- Thomas alva Edison

“जब आप सभी संभावनाओं से थक गए है, तब याद रखिये – ये आपने नहीं किया है।”

19. “There is far more opportunity than there is ability”. – Thomas alva Edison

“क्षमता से कहीं अधिक अवसर है।”

20. “Discontent is the first necessity of progress”. – Thomas alva Edison

“असंतोष प्रगति की पहली आवश्यकता है।”

Top 20 Thomas Edison Quotes

Insprational Quotes of Abdul KALAM || Top 30 MOTIVATIONAL QUOTES – OF GREATEST MOTIVATIONAL SPEAKERS || Read more about Thomas Edison at wikipedia

sundar-pichai

Sundar Pichai

image of Sundar Pichai
Source : Google

Inspirational Story of Sundar Pichai

दोस्तों हमारे लिए इससे ज्यादा गर्व की बात क्या होगी की एक भारतीय व्यक्ति को दुनिया के सबसे बड़े कंपनी गूगल(GOOGLE) के सीईओ के रूप में चुना गया हो । जी हा Sundar Pichai आखिर कुछ तो बात है जिससे पूरी दुनिया में इनकी इतनी दीवानी है।

“Friends, what would be a more proud moment for us that an Indian person has been chosen as the CEO of Google, the world’s largest company. Yes you are right it is Sundar Pichai, After all, there is something due to which the world is so crazy about him.”

Sundar Pichai journey

दोस्तों आज हम बात करने जा रहे है सूंदर पिचाई की जिन्हने तमिलनाडु की गलियों से दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी गूगल (GOOGLE) के सीईओ बनने तक का सफर तय किया । दोस्तों इस ऊंचाई तक पहुंचना हर किसी के बस की बात नहीं यह कोई सामान्य व्यक्त्यि हो ही नहीं सकता। लेकिन सच्चे दिल से कुछ कर जाने इच्छा हो तो इस दुनिया में कुछ भी असंभव नहीं।

“Friends, today we are going to talk about Sundar Pichai who travelled from the streets of Tamil Nadu to become the CEO of Google the world’s largest company. Friends, reaching this height is not a matter of everyone, it is someone cannot be a normal person. But if there is a desire to do something with a sincere heart then nothing is impossible in this world.”

सूंदर पिचाई का वास्तविक नाम सूंदरराजन पिचाई है उनका जन्म 12 जुलाई 1972 को तमिलनाडु के मदुरै में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम रघुनाथ पिचाई और माँ का लक्ष्मी है। सूंदर पिचाई एक मध्यवर्गी परिवार से है जिन्होंने बचपन में ना ही टेलीविज़न देखा और ना ही गाड़ियों में सफर किया। सूंदर के पिता रघुनाथ पिचाई एक इलेक्ट्रिकल इंजीनियर थे और उन्ही से सुन्दर को भी टेक्नोलॉजी से जुड़ने की प्रेरणा मिली।

Who is Sunder Pichai?

Sunder Pichai’s real name is Sundararajan Pichai, he was born on 12 July 1972 in Madurai, Tamil Nadu to a Brahmin family. His father’s name is Raghunath Pichai and his mother name is Lakshmi. Sundar Pichai is of a middle-class family. He neither watched television nor travelled in a car. Sundar’s father Raghunath Pichai was an electrical engineer and from him, Sundar also got inspired to join technology.”

First Interaction with Technology

जब सुन्दर पिचाई 12 साल के थे तो उनके पिता घर में एक लैंडलाइन (landline) फ़ोन लेकर आये। आज जो दुनिया के सबसे बड़े कंपनी के शीर्ष कारक के स्थान पर कार्यरत है उनके जीवन में ये सबसे पहले टेक्नोलॉजी (Technology) से जुड़ा हुआ कोई वस्तु था । सुन्दर पिचाई में एक बहुत ही विशेष गुण था वो टेलीफोन में डायल किया हुआ नंबर आसानी से याद कर लिया करते थे ।

“When Sundar Pichai was 12 years old, his father brought a landline phone to his house. today he is working on the top position (CEO) of the world’s largest company, it was the first moment in his life to be associated with any kind of technology, it was the lottery for him, he loved to call his friends & play with it. That telephone cemented his fascination for technology. He used to read about the invention of transistors. There was something that happened, there was a very special quality in Sundar Pichai, he used to remember every  number he dialled in the telephone, easily.”

उन्हें केवल फ़ोन नंबर ही नहीं अपितु हर प्रकार के नंबर याद रह जाते है पढाई के साथ-साथ वे क्रिकेट के भी दीवाने थे और अपने विद्यालय के क्रिकेट टीम की कप्तानी भी किया करते थे।


“He remembers not only the phone number but all types of numbers related to his daily life. He was also a cricket enthusiast/lover  and used to captain the cricket team of his school.”

Sundar Pichai Qualification

सूंदर पिचाई ने जवाहर विद्यालय से दसवीं की पढाई की, वना वाड़ी में अपनी बारहवीं की पढाई और फिर IIT  खरगपुर (Kharagpur) से अपनी Engineering की पढाई पूरी की। चेन्नई की खचाखच भरी ट्रैन में 24 घंटों का लम्बा समय तय करके सूंदर पिचाई, IIT खरगपुर जाया करते थे क्लास लेने के लिए। और उस अवसर ने उनके जीवन को बदल दिया। 

Sundar Pichai studied 10th from Jawahar Vidyalaya, studied 12th in Vana Vani and then his engineering from IIT Kharagpur. He used to jump a crowded train in Chennai  and travel for 24 hours to attain his school, IIT Kharagpur, and that opportunity changed the course of his life.”

अपने मेहनत और लगन के बल पर उन्होंने हर जगह टॉप किया और IIT  में उन्हें रजत पदक से सम्मानित किया गया। छात्रवृत्ति पाकर आगे की पढाई के लिए उन्होंने कैलिफ़ोर्निया के स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय में प्रवेश लिया और भौतिक विज्ञानं में मास्टर इन साइंस की डिग्री पूरी की। कैलिफ़ोर्निया में सूंदर को स्कॉलर और पामर स्कॉलर के पदक से सम्मानित किया गया ।आखिर में वे MBA  की पढाई के लिए व्हार्टन स्कूल , यूनिवर्सिटी ऑफ़ पेनसिलवेनिया चले गए ।

“Due to his hard work and dedication, he topped everywhere and was awarded a silver medal at IIT, after receiving a scholarship, he took admission in Stanford University, California and completed a Master in Science degree in Physics. There he was awarded the medals of Siebel Scholar and Palmer Scholar. Eventually, he went to the Wharton School, University of Pennsylvania, to pursue an MBA.”

How Sundar Pichai joined Google?

गूगल (GOOGLE) से जुड़ने से पहले सूंदर पिचाई मक्कीनसाय एंड कंपनी और एप्लाइड मटेरियल कंपनी में अपना योगदान दिया था । पिचाई 2008 में पहली बार गूगल (GOOGLE) से जुड़े , शुरुआती दिनों में उन्होंने एक छोटी सी टीम के साथ गूगल (GOOGLE) सर्च टूलबार पर काम किया। गूगल (GOOGLE) में काम करते समय सूंदर पिचाई के मन में एक विचार आया। और वो था खुद का इंटरनेट ब्राउज़र बनाने का ।

“Prior to joining Google, Sundar Pichai made his contribution to Makkinsay & Co. and Applied Material Company, Pichai joined Google for the first time in 2007, with a small team he started working on the Google search toolbar. While working at Google, Sundar Pichai got a new idea in mind. And that was to build Google’s  own internet browser.”

Sunder Pichai’s Contribution to Google –

पिचाई की पहली सफलता तब आयी जब गूगल (GOOGLE) एक बहुत ही कठिन समस्या से गुजर रहा था।  माइक्रोसॉफ्ट (MICROSOFT) ने इंटरनेट एक्स्प्लोरर (INTERNET EXPLORER) पर डिफ़ॉल्ट सर्च इंजन बदल कर अपने खुद के सर्च इंजन BING को  डाल  दिया।

“Pichai’s first breakthrough came when Google was going through a very difficult problem. When Microsoft changed its default search engine to Internet Explorer and puts its own search engine BING.”

यह 2006 में उन दिनों की बात है जब लगभग सभी लोग इंटरनेट एक्स्प्लोरर का इस्तमाल करते थे । पिचाई को इस समस्या का हल ढूंढने की जिम्मेदारी दी गयी उनका सुझाव था कि गूगल (GOOGLE) टूलबार जो कंप्यूटर और इंटरनेट ब्राउज़र पर सीधे इनस्टॉल किया जा सकता था और गूगल (GOOGLE) का उपयोग हो सकता था ।

 

“in 2006 when almost everyone used to browse with internet explorers. Sunder Pichai was given the responsibility to find a solution to this problem, he suggested that Google toolbar, which can be installed directly on computer and internet browser Could and through this everyone  could use Google.”

 जल्द ही वे गूगल (GOOGLE) के दूसरे प्रोडक्ट्स पर काम करने लगे जैसे GOOGLE गियर्स और गूगल (GOOGLE) पैक, गूगल (GOOGLE) टूलबार की सफलता ने पिचाई के मन में ये विचार लाया की गूगल (GOOGLE) को अपना ही एक इंटरनेट ब्राउज़र बनाना चाहिए । पिचाई इस बात को लेकर अपने प्रधान अफसरों के साथ चर्चा की परन्तु उस समय के CEO एरिक स्मिथ ने ये कहकर इंकार कर दिया की ये बहुत ही मंहगा प्रोजेक्ट है और उनके सुझाव को ठुकरा दिया।

“Soon he started working on other products of Google such as Google Gears  & Google Pack, and the success of Google toolbar brought Pichai’s an idea that Google should have its own internet browser. Pichai discussed this with his head officers, but then CEO Eric Smith refused, saying it was a very expensive project and turned down his suggestion.”

लेकिन पिचाई ने हार नहीं मानी और गूगल (GOOGLE) के अन्य साझेदारों larry page & Sergey brin से बात करके उन्हें मना लिया। 2008 में सूंदर पिचाई के मदद से गूगल (GOOGLE) ने खुद का वेब ब्राउज़र लांच किया जिसका नाम क्रोम (CHROME) दिया गया गूगल (GOOGLE) के लिए chrome एक बड़ी विजय साबित हुई । आज के समय में गूगल (GOOGLE) क्रोम दुनिया में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किये जाने वाला वेब ब्राउज़र है। क्रोम Chrome जल्दी ही दुनिया का नंबर एक ब्राउज़र बन गया इसके साथ ही सूंदर पिचाई अंतर्राष्ट्रीय तौर से एक विख्यात व्यक्ति बन गए।

He did not give up and persuaded him by talking to other partners of Google  Larry page & Sergey brin. In 2006, Google launched its own web browser with the help of Sundar Pichai, named as Chrome, chrome proved to be a major victory for Google. Today, Google Chrome is the most used web browser in the world. Chrome quickly became the world’s leading web browser, with this achievement  Sundar Pichai becomes an internationally renowned figure.

2008 में पिचाई GOOGLE के Vice President of Product Development बन गए इस पद के कारण वे गूगल (GOOGLE) के हर प्रस्तुतीकरण (Presentation) में हिस्सा लेने लगे और उनकी पदोन्नति होने लगी और 2012 में वे Senior Vice President of Chrome & apps बन चुके थे साल भर के अंदर ही उन्हें एंड्राइड (Android) भाग सँभालने का जिम्मा दिया गया ।अपनी प्रतिभा दर्शाते हुए पिचाई ने एंड्राइड 1 (Android1) की निर्माण की जिसके अंतर्गत स्मार्टफ़ोन सस्ते दामों में सभी को लुभा सका और अंततः 5 बिलियन लोगो ने इसका लाभ उठाया।

Sunder Pichai became the Vice President of Product Development of Google in 2008, due to this position he started attending every presentation of Google, and he got promoted and in 2012 he became the Senior Vice President of Chrome & Apps.

Within a year he was given the task of managing the Android part, showing his genius, Pichai built Android 1, under which the smartphone could attract everyone at cheaper prices and eventually 5 billion people Took advantage of it.

बहुत ही जल्द सूंदर पिचाई की एक और पदोन्नति हुई और उन्हें Head of Products 2014  बनाया गया। जिसके बाद सूंदर पिचाई गूगल (GOOGLE) के जाने-माने व्यक्ति बन गए।

“ Soon there was another promotion for Sundar Pichai and he was made the head of products 2014, after which Sundar Pichai became a well known person of Google.”

सूंदर पिचाई को बहार के कई कंपनियों से ऑफर आया, ट्विटर (Twitter) ने पिचाई Vice President of Product के पद के लिए पहले न्योता दिया और बाद में अपने CEO पद का , उसके बाद माइक्रोसॉफ्ट (Microsoft) के CEO पद क लिए बाते चलने लगी परन्तु वे गूगल (GOOGLE) से वफादारी निभाते हुए दूसरे कंपनियों के प्रस्ताव को ठुकरा दिया।

“Sundar Pichai received offers from several companies Twitter first invited him for the post of Vice President of product, and later on for his CEO position, followed by Microsoft’s CEO position. But, he turned down offers from other companies, playing loyalty to Google

यही वो अवसर था जो सूंदर पिचाई के लिए गूगल (GOOGLE) में बहुत ही महत्वपूर्ण मोड़ आया । उनके लगन को देखते हुए उनके प्रोजेक्ट को शीर्ष स्थान प्राप्त होते गए और देखते ही देखते पिचाई CEO के दौड़ में भी शामिल हो गये। गूगल (GOOGLE) के सीईओ बनने से पहले उनके पास माइक्रोसॉफ्ट और ट्विटर का भी ऑफर आया।

 

“ This was the occasion that marked a turning point in Google for Sundar Pichai. Seeing his dedication, his project attained the top position, and Pichai also joined the race for CEO. Before becoming the CEO of Google, he also got offers from Microsoft and Twitter.”

How Sundar Pichai become Google CEO?

लेकिन उनकी मेहनत को देखते हुए गूगल (GOOGLE) ने उन्हें बहुत सरे पैसे बोनस के रूप में देकर उन्हें रोक लिया। और आखिर कार गूगल (GOOGLE) ने 10 अगस्त 2014 को नए सीईओ की नियुक्ति की घोषणा करते हुए दुनिया को चौंका दिया वो पल दुनिया के सारे भारतीयों के लिए बहुत ही गौरव शाली था, क्योंकि एक भारतवासी एक ऐसे कंपनी का सीईओ बन चूका था। जिसमे केवल दाखिल होने का स्वप्न दुनिया के लाखो लोग देखते है।

“But seeing his hard work, Google stopped him by giving him a lot of money as a bonus. And finally, Google surprised the world by announcing the appointment of the new CEO on 10 August 2014, that moment was a great honor for all Indians of the world, because an India was such a company Had become the CEO of, in which millions of people of the world only see the dream of entering.”

इतनी बड़ी सफलता के पीछे सूंदर पिचाई के सरल स्वाभाव का भी बहुत बड़ा हाथ है। उनके सरल स्वाभाव के कारण उन्हें हर कोई बहुत मानता था।


“The simple nature of Sundar Pichai also has a big hand behind such a huge success. Due to his simple nature, everyone considered him very much.”

Sunder Pichai Quotes

1#  Wear your failure as a badge of honour.  

2#  It is very important to keep your hopes and keep your dreams and try to follow them.

3#  Let yourself feel insecure from time, It will help you grow as an individual.

4# You might fail a few times, but that’s Ok. you end up doing something worthwhile which you learn a great deal fromSunder Pichai.

5#  In life don’t React, Always Respond.

come let’s Read more inspiration Quotes from Sunder Pachai

Conclusion

दोस्तों अंत में बस यही कहना चाहूंगा – जब इरादा बना लिया ऊँची उड़ान का, फिर फिजूल है कद आसमान का, सूंदर पिचाई की जीवन कथा एक उत्तम उदहारण है उनके लिए जिन्ह सफलता पाने की इच्छा है , मुश्किल हालातो के बाद भी उनके लगातार कठोर परिश्रम, दृढ़ता और बुद्धिमता के कारन वे कंपनी उच्चा पद पर पहुंच गए , जहा हर व्यक्ति पहुंचना चाहता है।

“ Friends, in the end, I would just like to say – when the intention is to fly high, then the sky is full, the life story of Sundar Pichai is a good example for those who wish to succeed, even after difficult circumstances, their constant hard work

INSPIRETOME.COM

Inspiring Story of Naveen Gulia

Naveen gulia Image

आज का आर्टिकल उन प्रेरणादायक व्यक्ति के बारे में है जिन्हे भारतवर्ष में बहुत कम लोग जानते है जिन्होंने हिम्मत ना हरने का एक अलग परिचय दिया है जिन्होंने यह साबित कर दिया कि उम्मीद और सहस के दम पर हम कुछ भी कर सकते है जरूरत है तो सकारात्मक सोच बनाये रखने की, नवीन गुलिया (Naveen Gulia) एक लेखक ( Author ), चिंतक ( Thinker ), समाज सेवी ( Social Worker ) और प्रेरक वक्ता (Spokesman) है। नवीन गुलिया ( Naveen Gulia ) एक पूर्व-सेना अधिकारी ( Ex-Indian Army Officer ) और एडवेंचर स्पोर्ट्स में एक वर्ल्ड रिकॉर्ड होल्डर( World Record Holder in adventure sports ) , एक बहु-पुरस्कार विजेता, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रशंसित हैं जो वंचित बच्चों के कल्याण के लिए ‘‘अपनी दुनिया अपना आशियाना’’ ( Apni Duniya Apna Ashiana  ) नाम का एक संगठन चलाते हैं।

नवीन गुलिया ( Naveen Gulia ) सेना (Army) के अधिकारियों के परिवार से है, नवीन सेना के सेवानिवृत्त कर्मी नारायण सिंह गुलिया के एकमात्र जीवित पुत्र है, जिनका बड़ा बेटा एक सड़क दुर्घटना में गुजर गया। बचपन से ही नवीन का सपना था की वह भारतीय सेना (Indian Army) में एक कमांडो बने और अपने देश की सेवा करे और उनका यही सपना उन्हें सेना में पैरा कमांडो की ट्रेनिंग की तरफ ले गया। अपनी स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद उन्होंने एनडीए (NDA) का चयन किया । एनडीए (NDA) और आईएमए (IMA) में 4 साल का कठिन प्रशिक्षण लिया ।

अपने अधिकारी प्रशिक्षण प्रतियोगिता के अंतिम दिन अप्रैल 1995 देहरादून में उन्होंने अपनी कंपनी “संग्रो” का नेतृत्व किया और एक प्रभावशाली शुरुआत के साथ नवीन ने 8 फीट खाई को पार किया, जिग-ज़ैग संतुलन और एक उच्च रैंप के चरणों को चलाया। नवीन गुलिया इंडियन मिलिट्री एकेडमी (Indian Military Academy) में जब जिमनास्टिक (Gymnastics) कर रहे थे तब एक भयानक हादसे ने उन्हें गर्दन से नीचे गिरा दिया जिसकी वजह से उनका रीढ़ की हड्डी में चोट लगी और उनका पूरा शरीर लकवाग्रस्त (Paralyses) हो गया था और उन्हें पुणे के सैन्य अस्पताल में भर्ती कराया गया जहाँ अगले दो साल तक उनका इलाज चला।

डॉक्टर ने उन्हें 100% विकलांग घोषित कर दिया, डॉक्टरों ने नवीन को बताया की वह अब पहली की तरह चल-फिर नहीं सकते और ये भी कहा की उनकी देखभाल के लिए उन्हें दो परिचारकों (Attendants) की आवश्यकता होगी ।

नवीन (Naveen Gulia) ने डॉक्टरों की उस नकारत्मक बात से इस तरह के जीवन को जीने से इन्कार कर दिया और धीरे-धीरे खुद ही व्हीलचेयर के सहारे चलना-फिरना सीख लिया । कुछ दिनों बाद नवीन ने उन सारी सीमाओं को चुनौती दी जो उनके देश-प्रेम के लिए कुछ कर गुज़रने के ज़ज़्बे के बीच में आई। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि एक अधिकारी हमेशा एक अधिकारी रहता है नवीन ने नौकरी ना छोड़ने का फैसला किया और 2 साल बाद अस्पताल से बाहर आने के बाद उन्होंने खुद को मानसिक रूप से तैयार किया और खुद को पूर्ण रूप से समाज में वापस खींचने की प्रक्रिया में जुट गए । अब नवीन ने अपने जीवन में अधिक चुनौतियां लेना शुरू कर दिया।

1997-98 के दौरान नवीन ने दिल्ली के एक केंद्रीय विद्यालय में शिक्षक के रूप में काम करना शुरू कर दिया । स्कूल में बच्चो को पढ़ने के साथ-साथ नवीन ने कंप्यूटर मैनेजमेंट (Computer Management) में अपनी पोस्ट ग्रेजुएट की डिग्री पूरी की और कंप्यूटर साइंस पढ़ाना शुरू किया।

नवीन ने 2001 और 2004 के बीच विकलांग बच्चों और विकलांग सैनिकों के लिए एक एनजीओ (NGO) के साथ भी काम किया।

2004 में नवीन ने खुद को साबित करने के लिए एक चुनौती रखी चुनौती थी कि खुद गाडी चलाकर लद्दाख की मर्सीमिक ला चोटी पर जाने की जिसकी ऊंचाई 18,632 फ़ीट है । तिब्बती भाषा में मर्सीमिक का अर्थ है मौत का जाल होता है और नवीन को इस मौत के जाल को पार कर खुद को साबित करना था ।

Navin on top of Marsimik La
Navin on top of Marsimik La

उस समय इंटरनेट आज जितना शक्तिशाली नहीं था जो नवीन को हाथ से चलने वाली गाड़ी बनाने और चोटी मर्सीमिक ला पर जाने के लिए उनकी मदद करता, नवीन ने बड़ी मुश्किलों से गाडी बनाने के लिए जानकारियाँ इकट्ठा करनी शुरू कर दी और कई सारी वाहन बनाने वाली कंपनियों से संपर्क किया परन्तु किसी ने भी उनकी इस कार्य में मदद नहीं की नवीन प्रयास करते रहे और अपने लिए प्रयोजक ढूढंते रहे कुछ दिनों बाद टाटा कंपनी ने नवीन के बारे में पूरी तरह जाँच पड़ताल करने के बाद अपनी एस.यू.वी (SUV) सफ़ारी के साथ गाड़ी बनाने के लिए उनकी प्रयोजक कंपनी बन गई जिसके बाद नवीन ने हाथ से चलने वाले एक्सीलेटर और ब्रेक के साथ एक संशोधित कार चलाना शुरू कर दिया और दिल्ली से मार्सिमिक ला की चोटी पर जाने के लिए तैयारी करने लगे ।

पूरी तरह से खुद को तैयार करने के बाद वर्ष 2005 में नवीन ने दिल्ली से मार्सिमिक ला तक बिना रुके 1,110 किलोमीटर की दूरी केवल 55 घंटो में तय की । उनके मार्सिमिक ला की चुनौती ने उन्हें लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड (Limca Book of World Record) में प्रवेश दिलाया। जब मंज़िल पर पहुंच कर नवीन के सहयोगी ने पूछा कि कैसा लग रहा है तो उन्होंने सुकून भरे अंदाज़ में कहाः “अगर तुम्हारी जिन्दगी में कुछ ऐसा नही है, जिसके लिए तुम मर सकते हो तो तुम्हारी जिन्दगी बेकार है दोस्त। जिन्दगी बेहतरीन रही है और आज के बाद यह और बेहतरीन हो जाएगी।”

‘‘अपनी दुनिया अपना आशियाना’’Apni Duniya Apna Ashiana ( ADAA )

Navin's NGO, ADAA, works with children in a village in Haryana near Delhi
Navin’s NGO, ADAA, works with children in a village in Haryana near Delhi
Image Credits : http://www.theweekendleader.com/

एक सैनिक हमेशा अपने देश प्रेम की वजह से जाना जाता है जब वह अपनी सारी ज़िन्दगी अपने देश और देशवासियो की सेवा में लगा देता है अपने जीवन में हमेशा ऐसी ही सोच एक सैनिक होने के नाते नवीन की भी थी समाज के लिए काम करने की इच्छा अभी तक अधूरी थी। नवीन हमेंशा महात्मा गाँधी की उस बात पर विचार करते थे जो नवीन ने बचपन में स्कूल के दिनों में पढ़ा था कि काम वह करो, जिसका फायदा समाज के सबसे कमजोर वर्ग को हो। महात्मा गाँधी का ये विचार हमेशा नवीन के मन्न में रहता था और नवीन इस बारे में सोचा करते थे तभी सर्दियों में एक दिन सड़क पर 2 साल की बच्ची की रोने के आवाज़ सुनी और उन्होंने नवीन ने इस बच्ची को देखा उसके शरीर पर कम कपडे थे जिसके बाद वह उस बच्ची को अपने साथ ले गए और निश्चय किया कि गरीब और अनाथ बच्चो की सेवा करेंगे। जिसके बाद नवीन ने 2007 में एक संस्था ‘अपनी दुनिया, अपना आशियाना’ बनाई इस संस्था को बनाने का कारण था कि ग़रीब और अनाथ बच्चो को शिक्षा दिया जाए जिससे कि वह अपना भविष्य उज्ज्वल बना सके। नवीन और उनकी संस्था सड़को पर भीख माँगने वाले ग़रीब बच्चो और बाल मज़दूरी करने वाले बच्चो की मदद करते है उन्हें शिक्षा प्रदान करते है । आज भी नवीन और उनकी संस्था सैकड़ो बच्चो की मदद करते है उनकी ज़िंदगी बेहतर और खुशहाल बनाने के लिए । बच्चो से प्रेम भाव रखने के साथ साथ नवीन ने कुछ कहानियाँ और कविताएँ भी लिखी है ।

नवीन किसी भी काम को करने के लिए खुद को असक्षम नहीं समझते आज नवीन उन तमाम लोगों के लिए प्रेरणासोत्र हैं, जो किसी दुर्घटना की वजह से अक्षम हैं।

नवीन गुलिया (Naveen Gulia) के कुछ अनमोल वचन ।

·         “एक व्यक्ति को सशक्त करने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप उससे सब कुछ छीन लें। जब आपके पास खोने के लिए कुछ भी नहीं बचता, तो वहां कोई डर नही बचता।”

  • “मैने अपने आप को सिखाया कि ‘मैं जो था उस पर मुझे गर्व होना चाहिए। फिर मैनें खुद को उस गौरव के लायक बनाने के लिए तरीके खोजने शुरू कर दिए।”

·         “अकेले चलने के लिए एक बाघ के लिए, मजबूत, आत्मविश्वास, और निडर, बहादुरी नहीं है। यह आउटिंग है। यह है जो यह है। यह इसकी प्रकृति है। इसे छोड़कर कुछ और संभव नहीं हो सकता।

For a tiger to walk Alone, Strong, Confident, and Fearless, is not Bravery. It is outing. It is what it is. It is its Nature. It possible cannot be anything else except that.Naveen Gulia

·         जीवन में, अपने आप को कभी भी कुछ भी चुनने का विकल्प न दें जो आप चाहते हैं। इसे अपना स्वभाव बनाओ। ”

In life, never give yourself a choice to be anything except what you wish to be. Make it your nature.Naveen Gulia

नवीन गुलिया को अवार्ड और पुरुस्कार।

  • हरयाणा गौरव अवार्ड (Haryana Gaurav Award to Naveen Gulia)
  • इंडियन पीपल ऑफ़ द ईयर (Indian People of the Year)
  • ग्लोबल इंडियन ऑफ़ द ईयर (Global Indian of the Year)
  • नेशनल रोल मॉडल अवार्ड 2006(National Role Model Award 2006)
  • कर्मवीर चक्र 2009 (Karmaveer Chakra 2009)
  • (सी.एन.एन) (आई.बी.एन) रियल हीरोस अवार्ड 2012 (CNN IBN Real Heroes Award 2012)
  • (आई.सी.ओ.एन.जी.ओ) कर्मवीर पुरुस्कार 2011 (ICONGO Karmaveer Puruskar 2011)
  • इंदिरा युथ क्रांति अवार्ड 2012 (Indira Youth Kranti Award 2012)
  • केविन केयर एबिलिटी मास्टरी अवार्ड (KavinCare Ability Mastery Award for 2006)

“अगर वह अपने सपनों को पूरी तरह से अक्षम कर सकता है तो आप क्यों नहीं कर सकते?”

Inspiretome.com

success & failure

Success & Failure – An Inspiration

अगर हार ना हो इस जीवन में तो जीत का भी कोई अर्थ नहीं , दोस्तों असफलता और सफलता (Success & Failure) यह दोनों शब्द है तो एक दूसरे के विपरीत लेकिन रहते हमेशा एक दूसरे के साथ ही हैं,  एकदम पक्के दोस्त की तरह बस फर्क इतना है कि असफलता मिलने पर नाकामयाब लोग बिखर जाते हैं और कामयाब लोग निखर जाते हैं |

दोस्तों इस दुनिया में ज्यादातर लोग कुछ ही असफलताओं (Failure) से हार मान लेते हैं, और बहुत ही कम लोग होते हैं जो असफलताओं को अपना दोस्त मानते हैं और उनसे कुछ सीखते हैं और तब तक कोशिश करते हैं जब तक वह अपने सोच को सच में ना बदल दे |

दोस्तों ऐसे ही कुछ महान जिद्दी लोगों के असफलताओं ( Failure) के किस्से आज में इस आर्टिकल के द्वारा आपको बताने वाला हूं , जिसकी शुरुआत हम उससे करेंगे जिसने दुनिया में असफलताओं (Failure) के सभी रिकॉर्ड तोड़ डाले हैं,  जी हां आज हम उसी व्यक्ति के बारे में बात करने वाले हैं जिसने अपने लक्ष्य को पाने के लिए हर संभव प्रयास किया और अंततः उसे हासिल किया |

Why Failure Is Good for Success?

# Success & Failure 1

Source : facebook

1. THOMAS ALVA EDISON (थॉमस अल्वा एडिसन)  –  महान्   आविष्कारक   थामस   ऐल्वा   एडिसन   का   जन्म   ओहायो     राज्य   के   मिलैन  नगर  में  11  फ़रवरी   1847   ई.  को   हुआ,  यह वही व्यक्ति है जिसने घर – घर में अपने बल्ब की रोशनी से उजाला किया , लेकिन असफलताओं का इनके बचपन से  ही  एक गहरा रिश्ता रहा है , बचपन में यह केवल 3 महीने ही स्कूल गए और वहां से उन्हें यह कहकर निकाल दिया कि यह एक मंदबुद्धि बालक है,  जिसके उपरांत इनकी प्रारंभिक शिक्षा इन्हें इनकी मां ने घर में ही दी,  और यह खुद भी लगे रहे सेल्फ स्टडी करने में,  लेकिन जब 12 वर्ष के हुए तो एक इंफेक्शन के कारण इनकी सुनने की क्षमता काफी कम हो गई परंतु इन्होंने उसे भी सकारात्मक रूप में लिया | उन्होंने यह सोचा कि चलो अब बाहर की आवाजें काम करते वक्त परेशान नहीं करेंगे,  जब उसके बाद  उन्होंने नौकरी करना शुरू किया तब इन्हें नौकरी से यह कहकर निकाल दिया गया कि यह एक व्यर्थ व्यक्ति  है (non productive) है यानी यह उनके किसी भी काम के लायक नहीं है |

लेकिन दिन में केवल 4 घंटे सोने वाले इस बंदे ने कभी भी, किसी भी असफलता को अपनी हार नहीं मानी,  इनका कहना था कि हार तो कोशिश की होती है, या उस तरीके की जो असफल रहा , 1869  ई.  में  एडिसन  ने अपने  सर्वप्रथम  आविष्कार  विद्युत मतदान गणक  को  पेटेंट  कराया।  नौकरी   छोड़कर   प्रयोगशाला   में   आविष्कार  करने   का   निश्चय   कर   निर्धन   एडिसन   ने   अदम्य   आत्मविश्वास   का   परिचय   दिया।

अगर एडिशन अपने शुरुआती असफलताओं से खुद ही हार मान लेते तो हो सकता है कि आज भी हम मोमबत्ती और लालटेन की रोशनी में ही बैठे होते और अपनी जिंदगी बिता रहे होते , परंतु यह मनुष्य भी विचित्र प्रकार का ठीक था इन्होंने कभी भी हार नहीं मानी और लगे रहें एक के बाद एक दूसरी कोशिश करने में

एडिशन अपनी हर असफल कोशिश से कुछ सीखें कुछ सीखते और लग जाते अपनी नई कोशिशों में और फिर फेल होते और फिर कोशिश करते , जितनी भी बार फेल होते हैं अपने कोशिश में, उतना ही खुद को करीब पाते अपनी मंजिल के, हर बार वह फेल नहीं होते उनका तरीका फेल होता उनकी कोशिश फेल होती, इन्होंने खुद को कभी भी फेलियर नहीं माना इसलिए 9999 बार कोशिशें करने के बाद एडिसन ने वह कर डाला, आखिर उन्होंने बल्ब का आविष्कार कर ही डाला,  एडिशन का कहना था वह 9999 बार फेल नहीं हुए बल्कि उन्होंने 9999 ऐसे तरीके ढूंढ जिससे बल्ब बन ही नहीं सकता था

दोस्तों आप सोच सकते हैं कि यह बंदा कितना जिद्दी रहा होगा, कईयों ने कितना मजाक उड़ाया होगा, कितने ताने मारे होंगे कितनी बार फेल होना आप खुद ही सोचो अगर आप एक काम को करने में केवल 10 बार फेल हो जाओगे तो क्या आप उस काम को दोबारा दोहराओगे??, क्या उस काम को आप करने के बारे में सोचोगे??

और सोचने पर भी एडिशन ने खूब कहा है कि इस दुनिया में केवल 5% लोग ही सोचते हैं , 10% लोग सोचते हैं कि वह सोचते हैं और बाकी बचे लोग जो 85% है वह सोचने से ज्यादा मरना पसंद करते हैं|

आप भी सोच के देखिएगा कि आप उन 5% में आते हैं या 10% में या फिर बाकी बचे 85% में|

Failure Is the Seed of Growth and Success

# Success & Failure 2

– दोस्तों अब बात करते हैं इस धरती के एक और जिद्दी फेलियर कि

source : facebook

2. ZACK MA – जैक मा अलीबाबा (ALI BABA) के संस्थापक और इस दुनिया के सबसे पावरफुल लोगों के सूची में आने वाले 21वें नंबर के व्यक्ति है

ZACK MA  का जन्म 10 सितंबर 1964 चीन के जिनजियांग प्रांत के  के हन्हाजु गाँव   में   हुआ था, इस इंसान की जिंदगी में काफी फेलियर आयी है ,  गरीबी में पैदा हुए जैसे तैसे करके इन्होंने ग्रेजुएशन करी और नौकरी की तलाश में निकल गए, इंटरव्यू पर इंटरव्यू देते गए और हर बार रिजेक्ट होते रहे, जब उनके शहर में पहली बार KFC आया तो उसमें नौकरी के लिए 24 लोगों का इंटरव्यू लिया गया और 24 में से 23 लोगों को नौकरी दे दी गई और यह इकलौते ऐसे इंसान थे जो उस नौकरी को पाने में असफल रहे|

उसके बाद पुलिस के भर्ती में इनके साथ पांच लोग थे जिनमें से 4 को भर्ती कर लिया गया और जैक मा फिर से इकलौते इंसान थे जिन्हें नौकरी नहीं मिली और उन्हें रिजेक्ट कर दिया गया, इन्होंने नौकरी के लिए 30 बार इंटरव्यू दिए और एक के बाद एक करके अस्वीकार होते गए |  पढ़ाई के लिए उन्होंने हार्वर्ड ( HARVARD) में 10 बार आवेदन (APPLY) किया लेकिन हर बार उनके आवेदन को रिजेक्ट कर दिया गया |

इनके समर्थन मैं कोई भी नहीं था, इनके माता-पिता बहुत गरीब थे और ना खुद के पास पैसा था लेकिन बंदा बहुत जिद्दी था एकदम जिद्दी खुद को कभी असफल माना ही नहीं अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से इन्होंने $2000 उधार लिए और खोल डाली खुद की कंपनी अलीबाबा(ALI BABA),  और जब उन्होंने कंपनी खोली तब लोगों ने उनका खूब मजाक उड़ाया और कहा कि यह सोच या तरीका ही बेकार है , यह कंपनी कभी पैसा नहीं बना पाएगी और जल्द ही बंद हो जाएगी,  लेकिन उन्होंने इन सब की बातों को सुनकर भी अनसुना किया , इन सब को दरकिनार किया और उनकी बातों को माना नहीं और लगे रहे और धीरे-धीरे बना डाली एक ऐसी कंपनी जिसे आज पूरी दुनिया अली बाबा(ALI BABA) के नाम से जानती है |

Success & Failure in Life

# Success & Failure 3

source : facebook

3.AMITABH BACHCHANSuccess & Failure story

दोस्तों अब बात करते हैं इस सदी के महानायक श्री अमिताभ बच्चन जी (Amitabh Bachchan) के बारे में जिनकी दमदार आवाज और अभिनय  हम सभी के दिलों पर राज करती है, अमिताभ बच्चन का जन्म 11 अक्टूबर 1942 में हुआ इनका शुरुआती नाम इंकलाब श्रीवास्तव था |

दोस्तों हम सभी इनकी आवाज के दीवाने हैं , एकदम कड़क आवाज परंतु एक समय ऐसा भी था फिल्मों में आने से पहले अमित जी (Amitabh Bachchan) ऑल इंडिया रेडियो में सिलेक्शन के लिए गए जहां उन्हें उनकी इसी आवाज के लिए रिजेक्ट कर दिया गया , उन्हें यह कहा गया कि उनकी आवाज रेडियो के लिए सही नहीं है, वे यहाँ से निराश नहीं हुए, उसके बाद उन्होंने फिल्मों में रोल के लिए बहुत सारे ऑडिशन दिए लेकिन उनकी लंबाई के कारण उन्हें कई बार रिजेक्ट कर दिया गया,  शुरुआत में जब मुंबई आए तब कई रातें उन्होंने मुंबई के मरीन ड्राइव पर बिताई|

  बड़ी कोशिशों के बाद उन्हें फिल्मों में काम मिलना शुरू हुआ लेकिन एक के बाद एक लगभग 12 फिल्में फ्लॉप हो गई,  लेकिन यह जनाब भी उसी ढीठ यानी जिद्दी इंसान की श्रेणी में आते हैं , अमित जी कभी हार नहीं माने  और लगे रहे अपने फैलियर्स को फेल करने के लिए और उसी दौरान इनकी किस्मत चमकी और उन्हें एक फिल्म मिली जंजीर (1973) और उन्होंने इस फिल्म में ऐसी दमदार भूमिका निभाई जिससे हमारे बॉलीवुड को एक नया सितारा मिल गया और उन्होंने अपनी आने वाले वर्षों में कई सुपरहिट फिल्में किये  जैसे शोले(1975), अमर,अकबर & अन्थोनी(1977), डॉन(1978), त्रिशूल(1978), कुली(1983)   आदि और कामयाबी के शिखर पर पहुंच गए |

लेकिन सुपरस्टार बनने के बाद एक समय ऐसा भी आया जब उनकी सभी फिल्में फ्लॉप होने लगी, उसके बाद उन्होंने राजनीति में एक नई पारी की शुरुआत की जनता ने उन्हें भारी मतों से जिताया,  लेकिन इसके बावजूद भी वह सफल नहीं हो पाए और जनता से किए गए वादों को ना पूरा कर पाने मैं उन्होंने इस्तीफा दे दिया | उसके बाद इन्होंने अपना नया प्रोडक्शन हाउस स्टार्ट किया ABCL के नाम से, उनके साथ 1996 की मिस वर्ल्ड   उनके साथ जुडी , प्रोडक्शन हाउस उनके के लिए अच्छी चल रही थी, लेकिन जल्द ही बकाया राशि का भुगतान करने में असमर्थ रहे , उसके उन्होंने खुद को लगभग दिवालिया(BANKRUPT) पाया|

इसके बाद लोगों को लगा  की अमिताभ बच्चन कभी कामयाब नहीं हो पाएंगे, लेकिन महानायक ने अपनी किसी भी फेलियर को अपनी हार नहीं मानी और और लगे रहे अपनी कोशिशों पर और अपनी कोशिशों के द्वारा अपनी दूसरी पारी की शुरुआत की  टीवी सीरियल कौन बनेगा करोड़ पति (KAUN BANEGA CROREPATI) से और अपने सारे कर्जो को उतार और फिर से जी हां एक बार फिर सफलता के नए कीर्तिमान स्थापित किए और आज भी उम्र के इस पड़ाव में टीवी, मूवीस और एडवर्टाइजमेंट में जो इनकी  डिमांड है वह खुद मिसाल है |

असफलता   आपको   झूठे   आत्मविश्वास   के   बजाय   सच्चा आत्मविश्वास     देती  है।   जो   सफलताएँ   आसान   होती   हैं   वे   अक्सर   असफलता   के   लिए   बहुत   जगह   छोड़ देती    हैं –   क्योंकि   सफलता   ने   आपको   यह   महसूस   कराया   है   कि   कुछ   भी   गलत   नहीं   हो  सकता।   असफलता   समझने   और   अधिक   सफल   होने   के  लिए   एक   शक्तिशाली   उपकरण   है | विफलताएँ   पछतावा   नहीं  अपितु अवसर   प्रदान   करते   हैं, अपने   अवसरों   की   सराहना   करें,   भले   ही   वे   छोटे क्यों ना  हों।  अपनी   गलतियों   को   स्वीकार   करें।   जानें की   क्या   गलत   हुआ।   मजबूत,   अधिक   लचीला   और   समझदार   बनें।   कोशिश   करते   रहें।   आप   असफल   होने   की   तुलना   में    बहुत   अधिक   प्रयास   न   करने   का   पछतावा   करेंगे, इसलिए हमें कभी प्रयास करना नहीं छोड़ना चाहिए , निरंतर प्रयासों से ही हमें  सफलता प्राप्त होती है |

Read success and failure story of JK Rowling